फ़ॆबलॆब का मूल स्त्रोत

मॆसेच्युसेट्स इंस्टिट्युट ऒफ़ टेक्नॊलॊजी (MIT) स्थित, "द सेंटर फॊर बिट्स एंड ऎटम्स (CBA)", ने भौतिक/प्राकृतिक व्यवस्थाओंमें समाये हुवे संगणन (computational) विषयक क्षमताओंका एक अभ्यास - संशोधन शुरु किया है।  जरुरत तथा सुलभतावश,  इस अभ्यास कार्यक्रम कि पहली डिजिटल निर्माण (digital fabrication) प्रयोगशाला शुरु कि गयी, जो ’फ़ॆबलॆब’ नामसे जानी जाती है। इस अभ्यासके तहत, बहुविषयक तथा आंत:विषयक शिक्षा कार्यक्रमकी जोडमें, विभिन्न देशोंमें एकसदृश फ़ॆबलॆब बनायी गयी है। इस व्यवस्थाके जरिये, भौतिकी स्तरपर संगणन (computational) विषयक उपलब्धीके परिणाम व क्षमताओंके संशोधन-अभ्यास

As an interdisciplinary educational outreach programme, the CBA has supported the setting up abroad of a small number of similar Fab Labs, to be able to do further research into the effects and possibilities of making accessible the computational capabilities of the physical layer.
to be able to do further research into the effects and possibilities of making accessible the computational capabilities of the physical layer. The Fab Lab concept quickly became popular among users outside the research domain, and an international network of similar Fab Labs came into being that were all active in the areas of research, education and application of personal digital fabrication. These Fab Labs cooperate with local communities, universities and (international) governments.

सन २०११ कि शुरुवातमें, १६ अलग देशोंसे, लगभग ५० फ़ॆबलॆब, फ़ॆबलॆब नेटवर्कका हिस्सा बनी थी। फ़ॆबलॆबमें शरिक होनेवाले स्वयंसेवक तथा वेतन पर काम करनेवाले लोगोंके सहयोग से यह संभव हुवा। सहकारितासे काम करनेके कारण, यह सारी फ़ॆबलॆब एकसमान साधन, उपकरण, प्रक्रिया तथा बुनियादी सुविधाओंका इस्तमाल करती है।